उत्पन्ना एकादशी व्रत – इस दिन व्रत रखने का है बड़ा महात्म्य, हो सकती है मोक्ष प्राप्ति

0
125
utpanna ekadashi vrat meaning

यह तो सब जानते हैं कि 3 दिसम्बर को उत्पन्ना एकादशी है | लेकिन यह नहीं जानते कि एकादशी क्यों मनाई जाती है | तो आइए जानते हैं कि आखिर एकादशी क्यों मनाई जाती है |

क्यों मनाई जाती है उत्पन्ना एकादशी?

बहुत समय पहले एकादशी नाम की एक देवी थीं जिनका जन्म भगवान विष्णु से हुआ था | उनका जन्म मार्गशीर्ष माह के कृष्ण एकादशी के दिन हुआ था और उसी दिन वह प्रकट हुई थी | इसी वजह से देवी एकादशी का नाम उत्पन्ना एकादशी पड़ गया और इसी के बाद से ही इस दिन एकादशी व्रत शुरू हुआ | जिसको भारत मे बड़े ही श्रद्धा के साथ मनाया जाता है |

क्या हैं उत्पन्ना एकादशी व्रत करने के फ़ायदे?

कहा गया है कि इस व्रत को करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है | शास्त्रों को अनुसार इस व्रत को करने से इतना ज़्यादा पुण्य मिलता है जो किसी यज्ञ या फिर तीर्थ स्नान करने से भी कहीं ज़्यादा बढ़कर होता है | इस उपवास को करने से मन और शरीर निर्मल हो जाता है | इस व्रत को करना दान पुण्य करने से भी बढ़कर माना गया है | अगर आप ये व्रत करना चाहते हैं तो 3 दिसम्बर 2018 को ज़रूर यह व्रत रखे | ये आपके मन को शांत और शरीर को निर्मल कर देगा |

उत्पन्ना एकादशी व्रत करने की विधि

व्रत करने के एक रात पहले अच्छे से मुंह एवं दाँत साफ करकर सोये और ध्यान रखे की अन्न का कोई भी दाना मुंह मे न रह जाए और कोशिश करें की आप रात 12 बजे के बाद कुछ ना खाये | फिर एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठ कर व्रत करने के लिए संकल्प करे और शुद्ध जल से स्नान करे |

इसके बाद भगवान श्री कृष्ण की पूजा करें और दीप जलाए | ध्यान रहें रात को आप सोये नहीं | सारी रात भजन करें | और अंजाने में किए गए पापों के लिए क्षमा मांगे | सुबह फिर से भगवान श्री कृष्ण की पूजा करें और ब्राम्ह्ण को भोजन कराये और दान देने के बाद ही स्वयं खाना खाये |

उत्पन्ना एकादशी की तिथि और शुभ मुहूर्त

उत्पन्ना एकादशी इस बार 2018 में 3 दिसम्बर को आ रही है |

एकादशी तिथि प्रारंभ: 2 दिसंबर 2018 को रात 14:00 बजे से शुरू है |

एकादशी तिथि समाप्त : 3 दिसम्बर 2018 को 12:59 पर यह व्रत समाप्त हो जाएगा |

अगले दिन पारण का समय : 4 दिसम्बर 2018 को 07:02 से 09:06 बजे तक है |

पारण के दिन द्वादशी तिथि समाप्त: 4 दिसंबर 2018 को 12:19 बजे पर पारण के दिन द्वादशी तिथि समाप्त हो जाएगी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here