इन खूबियों से है लैस इजरायल की यह दिवार

0
214

गाजा इजरायल संघर्ष, गाजा पट्टी और दक्षिणी इजरायल के क्षेत्र में हो रहा, लंबी अवधि का इजरायल-फिलीस्तीनी संघर्ष का एक हिस्सा है। यह 2006 की गर्मियों में शुरू हुआ था और अभी भी चल रहा है। गाजा-इजरायल के बॉर्डर पर फलस्तीनियों के प्रदर्शन के बाद हो रही झड़प में 16 लोगों की मौत हो गई थी।

Israel border wall

सभी मरने वाले फलस्तीनी थे । फलस्तीनियों और इजरायलियों के बीच अक्सर बॉर्डर पर झड़प होती रहती है। इस की वजह है कि सीमा सुरक्षित करने के लिए इजरायल ने अपने बॉर्डर पर ऐसी मजबूत दीवार खड़ी बना रखी है, इस दीवार की पूरी दुनिया में चर्चा होती रहती है। इस दीवार की  इतनी मजबूती है कि कोई भी दुश्मन  इसको भेद भी नहीं सकता है। और  इजरायल का दावा है कि इस दीवार को बनने के बाद से आतंकवादी वारदातों में बहुत ही कमी आई है। और इजरायल को ये दीवार पांच दुश्मन देशों जॉर्डन, मिस्र, लेबनान, सीरिया और फलस्तीन से भी सुरक्षित करती है।

और सिर्फ इजरायल और अमेरिका के पास यह टेक्नीक है –

अभी यह टेक्नीक इजरायल और अमेरिका के पास ही है। इजरायल में 1994 में दीवार की फेंसिंग का काम शुरू हुआ था।

The Israeli West Bank Barrier Or border wall

इसके लिए उन्होंने इस पर एक अरब डॉलर का बजट था, लेकिन इस से भी  दोगुना से ज्यादा पैसा खर्च हुआ था। एक किमी  की दिवारपर 20 लाख डॉलर का खर्च आया। इससे यहाँ पर हमले 90% तक कम हो गए है । इसके अलावा उनकी आर्मी पर होने वाला खर्च में भी बचत हुई।

इजरायल ने खुद को बनाया अभेद

इजरायल का 1068 किमी लंबा बॉर्डर है और यह 20 हजार वर्ग किमी एरिया में है। यह बॉर्डर जॉर्डन,  मिस्र, लेबनान, सीरिया और फलस्तीन से लगी हुई है।

Israeli West Bank barrier

मिस्र, सीरिया बॉर्डर पर 16 फीट ऊंची फेंसिंग पर है, जबकि लेबनान बॉर्डर पर रेजर फेंसिंग पर है।गाजा पट्‌टी पर कंक्रीट की दीवार और फेंसिंग है। और इस दीवार को जमीन से 8 फीट नीचे से बनाया गया है।

यह दीवार सेंसर से लैस है

इजरायल और फलस्तीन की सीमा पर बनी इस दीवार को लेकर बहूत से  दिलचस्प तथ्य भी हैं। इस दिवार के निर्माण में दो बिलियन डॉलर यानि आज के हिसाब से 13,354 करोड़ रुपए लगे हैं। इस दीवार की लंबाई 700 किमी और  ऊंचाई आठ से 10 मीटर है |

इस दिवार पर ड्रोन भी रखते हैं नजरे

सेंसर से लैस है दीवार

इजरायल के पास खुद का सैटेलाइट सिस्टम है, और इसे वह किसी भी देश के साथ नहीं बांटता। अपने सैटेलाइट की बदौलत ही इजरायल ड्रोन चलाने की भी कैपेसिटी रखता है। दीवार के आसपास कई हिस्सों में एंटी बैलिस्टिक मिसाइल भी छिपाकर लगा रखी हैं।

थ्री-डी सेंसर इमेजिंग डिवाइस

वेबसाइट ‘पॉपुलर मैकेनिज्म डॉट कॉम’ की रिपोर्ट के मुताबिक, इजरायल की एक थ्री-डी सेंसर इमेजिंग कंपनी ने एक ऐसा डिवाइस बना रखा है, और इसकी मदद से दीवार के आरपार भी देखा जा सकता है।

दीवार पर आर्मी के लिए बुलेटप्रूफ कैबिन

दीवार पर आर्मी के लिए बुलेटप्रूफ कैबिन

इजरायल के बॉर्डर की सेफ्टी को पुख्ता करने के लिए यहाँ दीवार के ऊपर ही आर्मी के जवानों के लिए बुलेटप्रूफ कैबिन भी बनायें गये हैं। कैबिन से घुसपैठियों पर नजर रखने वाले जवान भी अत्याधुनिक हथियारों से लेकर नाइट विजन कैमरा और लैंस से लैस हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here