भगवान को भी मिली थी बचपन में कभी सजा – जानिए सचिन से जुड़े 10 अनकहे राज

0
215
क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर को भी भाई ने दी थी सजा, जानिए सचिन से जुड़ी 10 अनकही बातें जो शायद आप नहीं जानते होंगे

सचिन तेंदुलकर को भारत में क्रिकेट का भगवान माना जाता हैं। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर आज अपना 45वां जन्मदिन मना रहे हैं। तेंदुलकर ने पांच साल पहले इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया था, लेकिन आज भी तेंदुलकर के बर्थडे का क्रेज पूरे भारत पर छा जाता है।

200 टेस्ट मैच, 463 वनडे मैच के दौरान सचिन तेंदुलकर की कई पारियों को आज भी लोग याद करते हैं। क्रिकेट के लिए सचिन तेंदुलकर का जुनून और इस जुनून के रहते उनके अधिकतर किस्से हम बखूबी जानते हैं। उनकी किताब में कई किस्से है जैसे अपनी बल्लेबाजी से शेन वॉर्न को सपनों में डराना, टिश्यू लगाकर खेलना, लेकिन उनकी कुछ ऐसी भी बाते हैं, जिसे शायद बहुत ही कम लोग जानते है।  और वो खास बातें है जो आज भी मास्टर ब्लास्टर को सबसे अलग बनाती है।

  • जब सचिन जूनियर क्रिकेटर थे तो उन्हें क्रिकेट गीयर के साथ ही सोने की आदत थी।
  • सचिन तेंदुलकर का पहला विज्ञापन प्लास्टर चिपकाने वाला था।
  • जब सचिन तेंदुलकर पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण कर रहे थे तब उन्होंने सुनील गावस्कर द्वारा दिए गए पैड्स को पहने थे।

जब सचिन तेंदुलकर छोटे थे तब रविवार की शाम वह पेड़ से गिर गए थे, जबकि नेशनल टीवी पर गाइड दिखाई गई थीं। तब भाई अजित ने सजा के तौर पर उन्हें क्रिकेट कोचिंग क्लास भेज दिया था।

जानिए सचिन से जुड़ी 10 अनकही बातें जो शायद आप नहीं जानते होंगे

सचिन तेंदुलकर पहले ऐसे अंतरराष्ट्रीय बल्लेबाज थे, जिन्हें थर्ड अंपायर ने आउट दिया था।  डरबन टेस्ट के दूसरे दिन जोंटी रोड्स की गेंद पर सचिन कैच हो गए। टीवी अंपायर ने रिप्ले देखने के बाद सचिन को आउट दिया था ।

1995 में सचिन तेंदुलकर ने एक अलग वेश और दाढ़ी में रोजा फिल्म देखने सिनेमा हॉल गए, लेकिन उनके ग्लासेस गिर गए और सिनेमा हॉल में मौजूद भीड़ ने उन्हें पहचान लिया।

सचिन को घड़ियों और perfumes को कलेक्ट करना बेहद पसंद है।

जानिए सचिन से जुड़ी 10 अनकही बातें जो शायद आप नहीं जानते होंगे

सचिन तेंदुलकर ने पाकिस्तान टीम के लिए फील्डिंग की थी। भारत के खिलाफ एक दिन के अभ्यास मैच के दौरान सचिन ने विकल्प के रूप में फील्डिंग की थी।

14 साल की उम्र में वर्ल्‍ड कप के दौरान वानखेडे स्टेडियम पर भारत और जिम्बाब्वे के बीच खेले गए मुकाबले में सचिन तेंदुलकर बॉल बॉय थे।

सचिन तेंदुलकर के बारे में कहा जाता है कि वह हर स्वरूप में और हर अवस्था में अपनी बल्लेबाजी से गेंदबाजों को परेशान कर सकते हैं।  लेकिन 1987 में डेनिस लिली ने उन्हें एमआरएफ पेस फाउंडेशन के लिए तेज गेंदबाज के रूप में खारिज कर दिया था |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here